कुंभ में जाने वाली गाड़ियों में नही लगेगा टोल टैक्स

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कुंभ के लिए इलाहाबाद आने वाली कोई भी गाड़ी किसी भी रोड पर एनएचएआई कि तरफ से टोल टैक्स तीन महीने तक नहीं  वसूल किए जाने की दो संतों की मांग मान ली है।

पिछले महीने मुख्यमंत्री के साथ अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के प्रतिनिधियों की बैठक का ब्योरा देखने से पता चला है कि परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि महाराज और अखिल भारतीय श्री पंच दिगंबर अनि अखाड़ा के महंत ने इलाहाबाद जिले में गाड़ियों पर टोल टैक्स नहीं लगाए जाने की मांग की थी।

मुख्यमंत्री ने संतों से कुंभ के दौरान उनके शिविरों में आनेजाने वालों पर नजर रखने के लिए कहा। संतों ने प्रदेश सरकार से इलाहाबाद में पंचकोसी परिक्रमा दोबारा शुरू कराए जाने की भी मांग की है। इस पर सीएम ने कहा कि इसके लिए 5.13 करोड़ रुपये की योजना पर पहले ही काम शुरू हो चुका है। बैठक के ब्योरे के मुताबिक मुख्यमंत्री ने संतों से कहा, ‘मैं संत समाज से कुंभ के आयोजन से जुड़े सुझाव देने और उसमें महती योगदान करने का आग्रह करता हूं, ताकि देश की संस्कृति और धार्मिकता में आमजन का विश्वास बना रहे।’

महंतों का कहना था इससे साधु-संतों को 2019 में कुंभ आने में सुविधा होगी। आदित्यनाथ ने तुरंत संबंधित विभाग को निर्देश दिया कि वह 15 दिसंबर 2018 से 15 मार्च 2019 तक अगले तीन महीने के लिए टोल टैक्स हटाने का मामला एनएचएआई के सामने उठाए। नरेंद्र गिरि महाराज ने 2017 में कहा था कि संत समुदाय उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को नहीं, बल्कि उसको समर्थन करेगा जो सचमुच विकास लाएगा।

बैठक में लगभग 12 संतों ने मुख्यमंत्री को सुझाव दिए थे, जिसमें कुंभ क्षेत्र में शाही स्नान के दिनों में पुष्प वर्षा कराया जाना और इलाहाबाद किले को प्रतिमा के दर्शन के लिए पूरे समय खोला जाना शामिल था। योगी सरकार इस साल अक्टूबर तक इलाहाबाद के आठ अखाड़ा परिसरों में रिहाइश और साफ-सफाई की व्यवस्था को बेहतर बनाने पर 9 करोड़ रुपये खर्च करेगी। महंत नरेंद्र गिरि महाराज ने शाही स्नान के दिन सुरक्षा के पक्के इंतजाम किए जाने और कुंभ क्षेत्र के सभी 20 जोन में अस्पताल की सुविधा मुहैया कराए जाने की भी मांग की है।

कृपया इस पोस्ट को साझा करें!
Leave A Reply

Your email address will not be published.