कोई विवाद मतभेद नहीं है, सब मिलकर पार्टी को मजबूत करेंगे- अशोक गहलोत / अनामी शरण बबल

राजस्थान के भावी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से बातचीत

     नयी दिल्ली।  किसी भी तरह का हमलोग में कोई विवाद मतभेद नहीं है और हमलोग अनुभव और उत्साह के मिश्रण के साथ जनता की कसौटी पर खरा उतरने की कोशिश करेंगे। विकास की धारा को गतिशील करेंगे और राज्य की सबसे प्रमुख समस्याआें को प्राथमिकता के आधार पर सबसे अधिक ध्यान देने की पहल करेंगे।  वसुंधरा राजे की जनविरोधी कार्यों को खत्म करके विकास रोजगार शिक्षा           साक्षरत सड़क सेहत परिवहन उद्योग आदि पर ध्यान दिया जाएगा। मुख्यमंत्री की दावेदारी में युवा उत्साह पर अनुभव को तरजीह देते हुए कांग्रेस सुप्रीमो राहुल गांधी  ने सूबे की कई बार गद्दी संभालने वाले और राजस्थान क के तीसरी दफा मुख्यमंत्री बनने वाले वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अशोक गहलोत  ने राजनीतिक गहमा गहमी के बीच राजस्थान के भावी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने समग्र भारत के साथ फोन पर बात करते हुए सता की बागडोर संभालने से पहले अपनी योजनाओं पर प्रकाश डाला।

– वसुंधरा राजे सरकार को जनविरोधी और विकास विरोधी करार देते हुए  श्री गहलोत ने कहा कि  वे निवास और विधानसभा कार्यालय से राजपाट चलाती रही है। जनता के साथ इनका नाता टूट चुका था। रोजगार शिक्षा स्वास्थ्य की बदहाली से जनता परेशान थीं। इसी जन असंतोष का ही नतीजा है कि इस बार भाजपा को शिकस्त मिली। एक सवाल के जवाब में कहा कि आपका यहां आरोप ग़लत है कि वे केवल अपनी गलतियों से हारे हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का टीवी पर झूठ पर झूठ बोलने से भी  जनता के बीच इमेज खराब हुई। इससे उनके पराजय को आसान कर दिया। सूबे में भाजपा की हार को और धारदार बनाने के लिए कांग्रेस का जनता के साथ लगातार जुडाव ही इस चुनाव में हमलोग की ताकत बनी कि एक मजबूत संगठन के साथ कांग्रेस सता में आ गयी। भावी मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि यह सता मेरे और सचिन के लिए एक बड़ी चुनौती है। सता शासन की कमान संभालते ही लोकसभा चुनाव सिर पर है और हमलोग के सामने विधानसभा चुनाव के परिणाम को दोहराने की चुनौती है। जिसके लिए संयुक्त तौर पर संगठन को उत्साहित करके विजय अभियान को कायम रखना होगा।  सचिन पायलट कएह बारे में पूंह जाने पर गहलोत ने कहा कि यह मेरा सौभाग्य है कि मेरे को इतना उर्जावान नौजवान  का साथ समर्पण और सहयोग मिलेगा। इससे मुझे भी काफी राहत फुरसत और विचारों को साझा करके कुछ बेहतर कआमह करने का मौका मिलेगा। एक सवाल के जवाब में गहलोत ने कहा था राज्य के सभी लोग भले ही मुझे मुख्यमंत्री माने पर मेरे बाॅस हमेशा सचिन पायलट ही रहेंगे। पिछले दस साल से लोगो को जोड़ता हुआ हीं चला रहा हूं तो अपने घर में अपनो के साथ सहयोग समर्थन समर्पण संगठन के साथ ही तो सफलता की कहानी लिखी जाएगी।  लोकसभा चुनाव में बेहतर परिणाम आने के बाद केंद्र सरकार में शामिल होने के लिए बुलावा आने के सवाल पर ठहाका लगाते हुए कहा कि पार्टी का अनुशासित सिपाही रहा हूं और आलाकमान के हर आदेश को सिर नवाकर ही ग्रहण किया है। और हमेशा करता रहूंगा।
कृपया इस पोस्ट को साझा करें!

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *